केरियर विकल्प

वर्तमान समय मैं युवाओं के पास अच्छे केरीयर के लिए कई विकल्प उपलब्ध है। जिस भी विषय मैं रुचि हो उसके बारे मैं पर्याप्त जानकारी प्राप्त कर उचित विकल्प चुना जा सकता है। 2001 के बाद भारत मैं उच्च शिक्षा के क्षेत्र मैं क्रांतिकारी परिवर्तन आया है। इसके पहले स्नातक , स्नाकोत्तर , इंजीनियर , डॉक्टर , शिक्षक , बैंक मैं नोकरी या सरकारी क्षेत्रों की नोकरिया ही केरियर के विकल्प के रूप मैं मोजूद थे।

अब सभी तीनो संकाय , विज्ञान , वाणिज्य व कला के विधार्थियो के लिए अच्छा केरियर बनाने के लिए कई विकल्प उपलब्ध है।

विज्ञान संकाय के विधार्थियो के लिए मेडिकल के कई कोर्स है ,एमबीबीएस , बीयूएमएस यूनानी चिकित्सा , बीएचएमएस होमेयोपेथी , बीएएमएस आयुर्वेद , बीएनवायएस नेचरोपेथी, बीडीएस डेंटल, बीवायएससी वेटरनरी। इन सभी के लिए प्रवेश परीक्षा देनी होती है, जिसके बारे मैं समय समय पर समाचार पत्रों मैं सूचना आती रहती है।
पेरामेडिकल के कई कोर्स है, जो डिप्लोमा है और स्नातक स्तर के कोर्स है।नर्सिंग , फ़ार्मेसी , लेब टेक्नीशियन , क्लीनिकल ओपटोमेट्री, डेंटल मेकेनिक , डेंटल हाईजीन , डेंटल टेक्नीशियन, हेल्थ इन्स्पेक्टर, इमेजिंग टेक्नीशियन, न्यूक्लीयर मेडिसिन टेक्नीशियन , फिसियोथेरिपि , रेडियो थेरिपि टेक्नीशियन। इन विषयों मैं पढ़ाई के बाद सबसे ज़्यादा रोज़गार के अवसर उपलब्ध है।

इंजीनियरिंग कोर्स कम से कम 35 ब्रांच मैं किया जा सकता है, जो स्नातक स्तर का चार साल का कोर्स होता है। अब कई नए विषय जिन मैं बेहद अच्छी सम्भावनाए है वो है औटोमेशन एण्ड रोबाटिक्स, पालीमर टेकनोलोज़ी , नेनो टेक्नोलोजी।

विज्ञान विषय मैं स्नातक स्तर की उपाधि अब कई कोर्स मैं दी जाती है। भविष्य मैं इन विषयों मैं अधिक सम्भावना है वो है , डाईटिशियन , हार्टीकल्चर, फ़ारेस्ट्री, सेरिकल्चर , एंथरोपोलोज़ी, फ़ूड टेक्नोलोजी, डेरी टेक्नोलोजी। इन सभी विषयों मैं तीन साल का कोर्स होता है। सभी विषयों मैं स्नाकोत्तर उपाधि कोर्स भी है,ये कोर्स कई यूनिवर्सिटी मैं उपलब्ध है। फरेंसिक साइंस भी बेहद अच्छा विषय है।

वाणिज्य संकाय के युवाओं के लिए भी स्नातक स्तर पर कई विषयों मैं कोर्स उपलब्ध है, जिस मैं बैंक मेनेजमेंट , ट्रवल एंड टुरिज़म , बी॰बी॰ए॰ , बीबीएम , बीएफ़एम , बीएएफ़ इसी के साथ CA CS और CMA कोर्स सबसे ज़्यादा डिमांड मैं है। कई सर्टिफ़ाइड कोर्स है जो शेयर मार्केट , बीमा क्षेत्र मैं काम करने के लिए दिए जाते है।

कला संकाय के विधार्थियो के लिए भी अब कई सम्भावनाए है। फ़ाइन आर्ट्स , एडवरटाइज़िंग , फ़ारेन लेंगवेज, लाइब्रेरी साइंस , इंटीरियर डिज़ाइनिंग , साइकोलोजि, सोशल वर्क, पत्रकारीता जैसे बहुत कोर्स है जिन मैं वर्तमान व भविष्य मैं बेहद ज़्यादा काम के अवसर मिलेंगे।

इसके अलावा LLB के बाद सीधे प्रेक्टिस या अन्य क़ानून सम्बंधी सरकारी नोकरियो मैं आवेदन किया जा सकता है।

अपनी रुचि के अनुसार ही केरियर चुने , इसके लिए केरियर सलाहकार की मदद भी ले सकते है।

No comments:

Post a Comment