Wilson hills gujrat

                                   

new year सेलिब्रेट  करने के लिए सोचा एक दिन के लिए सूरत के आस  पास कहाँ  जाया जा सकता है ,विल्सन  हिल एक बार मानसून सीजन मै  जा चुके थे ,सोचा जनवरी मै  कैसा होगा ,जा कर देखे
सभी फोटो जनवरी महीने की है ,हरियाली से लबरेज थी पहाड़ी और घाटी भी |


विल्सन हील्स गुजरात का एक हिल स्टेशन है , जो सूरत के पास धरमपुर तहसील मैं आता है , घने जंगलो के बीच ‘ pangarbari wildlife sanctuary के पास है ।

यह विश्व के उन गिने चुने हिल स्टेशन मैं से एक है जहाँ से समुद्र की झलक दिखती है ।
इसकी ऊँचाई 750 m ya 2500 feet है ।

बारिश मैं यहाँ का नज़ारा बेहद ख़ूबसूरत होता है , बादल इतने नीचे होते है की हाथ से छू लो , हर तरफ़ हरियाली , कई झरने स्वर्ग सा आनंद देते है ।

गरमियों मैं भी यहाँ आना सुकून भरा होता है , मैदानी गरमी से दूर , उमस भरे मौसम से दूर यहाँ का मौसम बेहद ठण्डा और शांत होता है ।

                                 
                                     

Location


सूरत से लगभग 130 km दूर और धरमपुर से 32 km , वलसाड से 62 km की दूरी पर है ।
लगभग 20 km लम्बा खड़ा व बेहद घुमावदार घाट रोड है , कई जगह बेहद तीखे मोड़ है ।
आप अपने वाहन से जाएँगे तो पूरे रास्ते की सुंदरता को पास से देख पाएँगे ।
बेहद ख़ूबसूरत व रोमांचक सफ़र होता है । 
Destination से ज़्यादा आपको सफ़र मैं मज़ा आएगा ।

                                   

इतिहास 


इस हिल का नाम मुंबई के governor Lord Wilson के नाम पर पड़ा ,जो धरमपुर के अंतिम राजा विजय देव ने दिया ।
यह एक आदिवासी इलाक़ा है , जिसे विकसित करने का प्लान राजा और lord wilson ने बनाया था लेकिन वो materialise नहीं हो पाया , बस एक monument के रूप मैं ही रह गया ।
                                         

देखने लायक जगहे 

  1. मार्बल छतरी 
  2. स्टेप वेली 
  3. सनराइज़ पोईँट
  4. सनसेट पोईँट 
  5. शंकर वॉटरफ़ॉल 
  6. बारुमल टेम्पल 
  7. लेडी विल्सन म्यूज़ीयम 
  8. The district science centre 
  9. Bilpudi twin waterfalls
                                      
Water falls सिर्फ़ मानसून सीज़न मैं ही देखे जा सकते है , यही best season hai यहाँ जाने का , 150 feet   की ऊँचाई से गिरते झरने , मख़मली हरियाली , पल पल बदलता मौसम , रुई के फाहो की तरह , धुआँ धुआँ बादल , सचमुच सब कुछ सपने सा लगता है ।बाक़ी महीनो मैं पूरी पहाड़ी और वहाँ से दिखती पूरी घाटी हरियाली की चादर ओढ़े दिखती है ।

ठहरने के लिए ऊपर कुछ huts भी बने है , resort व restaurant भी है , लेकिन सुविधाओं का अभाव है ।
खाने का सामान अपने साथ ही लाया जाए क्योंकि ऊपर ज़्यादा कुछ नहीं मिलता है ।
आप घुमाव दार  रास्तो और तीखे मोड़ो पर सुरक्षित ड्राइव कर सकते है ,तो ही अपने वाहन  से जाये ,नहीं तो धरमपुर  मै  आपको जीप भी मिल जाएगी ,क्योकि कई मोड़ बेहद खतरनाक है , और बारिश मै  फिसलन भरे भी , हालाँकि पूरा टार  रोड है 
इस मानसून मैं ज़रूर जाए wilson hills ।











No comments:

Post a Comment