शनि का वक्रि भ्रमण


वर्तमान मैं शनि का भ्रमण धनु राशि मैं चल रहा है परंतु तारीख़ 20 जून 2017 को धनु राशि से वक्र भ्रमण करते हुवे व्रस्चिक राशि मैं प्रवेश करेगा । जो 26 ऑक्टोबर 2017 को वापस मार्गी हो कर धनु राशि मैं प्रवेश कर जाएगा ।
व्रस्चिक राशि शनि के शत्रु मंगल की राशि है ।
शनि का व्रस्चिक राशि मैं प्रवेश होने से सिंह राशि पर लघु पनोती लग जाएगी जो मानसिक अशांति व अन्य कई छोटी परेशनिया पैदा करेगी ।
सबसे ज़्यादा असर मेष राशि के  जातकों पर पड़ेगा पनोती के साथ शनि अस्टमेश मैं प्रवेश करेगा , वर्तमान मैं गुरु भी मेष राशि के जातकों के षस्ट मैं भ्रमण कर रहा है , जो रोग , ऋण व शत्रु का घर है ।
शारीरिक व आर्थिक क़स्ट रहेगा व शत्रु पक्ष प्रबल रहेगा ।
धनु राशि के जातकों पर भी पनोती का असर रहेगा , आकस्मिक व अनुपयोगि व्यय , चिंता व भ्रमण होगा । यात्रा मैं सावधानी आवश्यक है ।
कुम्भ राशि के जातकों के लिए भी यह वक्रि भ्रमण शुभ नहीं होगा , व्यापार मैं नुक़सान की सम्भावना , व नौकरिपेशा वर्ग को कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है ।
तुला व व्रस्चिक राशि के जातकों के लिए भी यह समय शुभ नहीं कहा जा सकता है , संयम रखे व शुभ समय की प्रतीक्षा करे ।
लेकिन कन्या राशि के जातकों के लिए यह पनोती अत्यंत लाभदायक रह सकती है , नाम प्रतिस्ठा मैं व्रद्धि होगी , आर्थिक समस्या दूर होगी , हर प्रकार से शुभ समय रहेगा ।
यह 128 दिन का समय सभी राशि के जातकों पर कम या अधिक मात्रा मैं प्रभाव अवश्य डालेगा अतः , धेर्य रखे व शुभ समय की प्रतीक्षा करे ।
शनि का यह वक्रि भ्रमण मौसम पर भी अपना प्रभाव डालेगा , अति वर्षा , भूकंप, दुर्घटनाओं की सम्भावना अधिक रहेगी ।
इस 128 दिनो के समयकाल मैं फिर से कोई अप्रत्याशित निर्णय या घटना घटित हो सकती है ।
हालाँकि यह एक छोटा समय ही है फिर भी जो जातक जिनका जन्म 15 ऑगस्ट से 15 सेप्टेम्बर के मध्य , 15 नोवेम्बर से 15 डिसेम्बर के मध्य या 15 मई से 15 जून के मध्य हुवा है उनको मानसिक परेशानी व कई छोटी मोटी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा , आर्थिक व शारीरिक तकलीफ़ हो सकती है
.

शनि मंत्र का जाप व हनुमानजी की उपासना व दर्शन से लाभ होगा ।


फ़ोटो गूगल से साभार 

डबल डेकर प्याज़ पराँठा

मेरी बेटी को अपने लंच बॉक्स मैं कभी पराँठा सब्ज़ी नहीं चाहिए होती थी , और सब्ज़ी खिलाना ज़रूरी होता था , तो मैं हर सब्ज़ी का स्टफ़ पराँठा बना कर देती थी , और उसे अभी तक वही ज़्यादा पसंद आते है ।
स्टफ़ पराँठे हम आलू , गोभी , पनीर , मूली आदि के बनाते है ।
मैं प्याज़ के डबल स्टफ़िंग वाले पराँठे की receipy शेयर कर रही हू , जो आप बच्चों के लंच बॉक्स मैं या अपने नाश्ते। खाने मैं ज़रूर बनाना चाहेंगे ।

आवश्यक सामग्री 

कवरिंग के लिए 

  • आटा 1 कप
  • बेसन  1 बड़ा चम्मच 
  • नमक 1/2 छोटा चम्मच 
  • तेल 1 छोटा चम्मच

स्टफ़िंग के लिए 

  • एक बड़ा प्याज़ 
  • हरी मिर्च 1
  • हरा धनिया 
  • नमक 
  • लाल मिर्च 1/4 छोटा चम्मच 

बनाने की विधि 

आटे मैं बेसन , नमक व तेल मिला कर ना अधिक कड़ा ना अधिक ढीला , गूँथ ले । ढाँक कर रख दे । 
प्याज़ को बिलकुल बारीक काट ले , या कद्दूकस कर ले , नमक मिलाए ।
प्याज़ पानी छोड़ देगा , हाथ से दबा कर सारा पानी निकाल दे । 
प्याज़ मैं बिलकुल बारीक कटा हुवा हरा धनिया व हरी मिर्च डाले ( हरा धनिया ज़्यादा डालेंगे तो ज़्यादा अच्छी ख़ुशबू और स्वाद आएगा , हरी मिर्च जितना तिखा पसंद करते है उस हिसाब से डाले , मैंने एक डाली है ), लाल मिर्च डाले व अच्छी तरह मिक्स कर ले ।
एक निबु के आकार का आटे का गोला बनाए , पूरी जितना बड़ा बेल ले , पूरी के आधे भाग मैं प्याज़ का मसाला भर दे , और दूसरे आधे भाग को उस पर फ़ोल्ड कर के दबा का किनारे चिपका दे , अर्ध चंद्राकार शेप बन जाएगा , इसी के आधे भाग मैं फिर से प्याज़ का मसाला भरे और दूसरे भाग को उस पर गिरा कर साइड से चिपका दे , एक ट्राइऐंगल शेप बन जाएगा , इस पर सूखा आटा लगा कर ट्राइऐंगल शेप मैं ही बेल कर बड़ा कर ले । 
मध्यम आँच पर दबाते हुवे दोनो तरफ़ तेल लगा कर सेंक ले । 
चाकु से काट कर दो हिस्से कर ले । 
टोमटो साँस , चटनी , अचार,  दही सब्ज़ी जिसके साथ खाना पसंद हो खाए ।

विशेष 

प्याज़ मैं नमक मिला कर , फिर दबाएँगे तो प्याज़ का  सारा रस निकल जाएगा , इसको आटे मैं भर कर बेलने पर आसानी होगी ।
डबल स्टफ़िंग होने से ये पराँठे बहुत मुलायम बनते है । 
बनाने के कई घंटो बाद भी ये मुलायम ही रहेंगे । 






रसेदार अरवी




रसेदार अरवी मेरी बेटी की पसन्दीदा सब्ज़ी है , सूखी अरवी सब्ज़ी की तरह खाने के बजाय मैं as a snack ज़्यादा पसंद करती हू ।
गरमियों मैं जब सब्ज़ियों के options सीमित हो जाते है , तब अरवी ज़्यादा बनती है ।

आवश्यक सामग्री 

  • अरवी     250gm
  • प्याज़     1  
  • टमाटर     1
  • लाल मिर्च  1/2छोटी चम्मच
  • हल्दी.        1/4 छोटी चम्मच
  • धनिया पाउडर  1 छोटी चम्मच
  • अजवाइन    1 छोटी चम्मच
  • नमक   स्वादानुसार 
  • तेल    
  • हरा धनिया 

बनाने की विधि 

अरवी को अच्छी तरह धो कर छिल ले , पतले स्लाइस काट ले ।
तेल गरम करे , और अरवी के स्लाइस को सुनहरे होने तक तल ले । 
प्याज़ और टमाटर को mixi मैं ग्राइंड कर ले । 
कुकर मैं एक बड़ा चम्मच तेल डाले , अजवाइन डाले , पिसे हुवे प्याज़ और टमाटर डाले , तब तक भूने जब तक मसाला तेल ना छोड़ दे , लाल मिर्च , हल्दी और धनिया पाउडर डाले , एक कप पानी डाले ( ज़्यादा रसेदार बनानी है तो ज़्यादा पानी डाल सकते है ) नमक डाले ,एक सिटी ले । गैस बंद कर दे । 
हरा धनिया डाल कर गार्निश करे ।
गरम चपाती के साथ सर्व करे । 

विशेष

अरवी को ठीक अन्दाज़ मैं पकाना बेहद ज़रूरी है , कच्ची रहेगी तो गले मैं चुभेगी , और ज़्यादा पक जाएगी तो चिकनी हो जाएगी , एक सिटी आने पर तुरंत बंद करके , प्रेशर रिलीज़ करके कुकर का ढक्कन खोल दे । 
अजवाइन ज़रूर डाले , उसी से एक अलग स्वाद आएगा और गैस्ट्रिक ट्रबल भी नहीं होगा । 

आटा मलाई हलवा

आटे का हलवा हम आम तोर पर घी मैं आटा भून कर बनाते है वो थोड़ा सा stiky हो जाता है , लेकिन अगर ताज़ा मलाई मैं आटा भून कर हलवा बनाया जाए तो वो दानेदार मूँग के हलवे जैसा स्वाद देता है और दिखता भी वैसा ही है ।
बनाने मैं बेहद आसान और झटपट बन जाएगा ।

आवश्यक सामग्री 

  • आटा   2 बड़े चम्मच 
  • मलाई  1/2 कप
  • शक्कर 4 छोटे चम्मच ( अगर ज़्यादा मीठा खाते है तो शक्कर ज़्यादा ले )
  • पानी     1/2 कप
  • बादाम  4 क़तरे हुवे 

बनाने की विधि 

कढाही मैं मलाई डाले , आटा डाले , और मध्यम आँच पर बादामी रंग होने तक भूने , लगभग 7 ..8 मिनट मैं भून जाएगा , इसमै आधा कप पानी मिलाए , चलाते रहे , जब थोड़ा गाढ़ा होने लगे तब शक्कर मिलाए , लगातार चलाते रहे जब तक की किनारों से घी न छूटने लगे । 
हलवा तैयार है , बादाम से गार्निश करे , और गरम सर्व करे । 

विशेष 

मलाई हमेशा ताज़ी ले , और बनाते समय मलाई को पिघलने ना दे , उस मैं तुरंत ही आटा डाले , तभी दानेदार हलवा बनेगा 


मेरी सभी receipies self tested होती है , अगर कोई भी confusion है या कोई query है तो ब्लॉग के नीचे comment बॉक्स मैं जा कर लिखे । 

क्रिस्पी कॉर्न


  • बारिश के मौसम मैं भूने हुवे भुट्टे का मज़ा ही अलग है . आजकल लगभग हर मौसम मैं भुट्टे मिलने लगे है , अमेरिकन मकई देसी मकई से टेस्ट मैं मीठी होती है इसलिए इसे स्वीट कॉर्न भी कहते है । 

इसी स्वीट कॉर्न या अमेरिकन मकई से कई स्नैक्स बनाए जा सकते है ।
मैं आप से शेयर कर रही हू क्रिस्पी कॉर्न की receipy

आवश्यक सामग्री

  • मकई के दाने  1 कप
  •  कॉर्न फ़्लोर.   2 छोटे चम्मच 
  •  तेल 
  • चाट मसाला   1 छोटा चम्मच
  •  लाल मिर्च     1/4  छोटा चम्मच 
  •  नमक       स्वादानुसार 
  • हरा धनिया  
 

बनाने  की विधि 

मकई के दाने पाँच मिनट तक उबलते पानी मैं डाल कर रखे , चलनी मैं डाल कर पानी निथार दे , दस मिनट तक फेला कर  रख दे । 
मकई के दानो मैं कॉर्न फ़्लोर मिलाए , अच्छी तरह मिक्स कर ले , तेल गरम करे , और उस मैं दाने deep fry करे , सुनहरे होने तक तले , एक टिशू पेपर पर निकाल कर अतिरिक्त तेल निकाल दे । 
इसमै चाट मसाला , लाल मिर्च  और नमक मिलाए , अच्छी तरह मिक्स करे । 
कटा धनिया डाल कर गरम ही सर्व करे । 
क्रिस्पी और बहुत टेस्टी कॉर्न तैयार है । 

विशेष 

अमेरिकन मकई या स्वीट कॉर्न से ही बनाए , ज़्यादा टेस्टी बनेंगे ।
Deep fry करते समय दाने बहुत उड़ते है , और बर्स्ट होते है , अतः तलते समय सावधानी रखे , व साइड से ढाँक कर तले चाहे तो इसमै अदरक  का पेस्ट व कटी प्याज़ भी डाल सकते है । 
नमक ज़रूरत हो तो ही डाले क्योंकि चाट मसाले मैं नमक होता है । 




कच्चे आम का शरबत


गरमियों मैं गरमी और लू ( sunstroke ) से बचने के लिए कई पेय पदार्थ जैसे गन्ने का रस , शिकंजी , आम पना , और नारियल पानी प्रमुख है ।
आम पना जब पीना हो उसी समय बनाया जाता है , लेकिन कच्चे आम का शरबत बनाने के लिए हम पल्प को कई महीनो तक फ़्रीज़र मैं स्टोर कर के रख सकते है , जब आम का सीज़न ना हो फ़्रेश आम ना मिले तब भी हम आम के शरबत का मज़ा ले सकते है ।
बनाना बेहद आसान है , साथ ही minimum ingridents से बन जाता है ।

आवश्यक सामग्री 

  • कच्चे आम का पल्प  1 cup
  • शक्कर                   1 cup
  • पानी                      1/4 cup
  • काला नमक            1 pinch
  • पुदिना पत्ती.            2

बनाने की विधि 

आम को धो कर छिल ले , छोटे टुकड़े कर ले , बगेर पानी डाले mixi मैं ग्राइंड कर ले , जूस छलनी से छान ले । 
एक बर्तन मैं शक्कर ले , पानी डाले , गरम करे , शक्कर पिघल कर एक गाढ़ा सिरप बन जाएगा , इसी सिरप मैं आम का पल्प डाल दे , एक बार उबल जाने दे । 
ठण्डा होने पर यह जैम की तरह हो जाएगा । 
Air tight container मैं भर कर फ़्रीज़र मैं रख दे । 
जब पीना हो तो एक ग्लास ठण्डा पानी ले , उस मैं दो चम्मच पल्प डाले , काला नमक व crushed पुदिना पत्ती डाले , आइस क्यूब्ज़ डाले । 
बेहद हेल्थी और टेस्टी शरबत तैयार है ।

विशेष 

तोता परी या कलमि आम या राजापूरी आम लेंगे तो शक्कर जितना पल्प है उतनी लेनी है , लेकिन देसी अंबिया बहुत खट्टी होती है , इसलिए जब देसी अंबिया से बनाए तो पल्प 1 कप और शक्कर सवा कप 1.25 लेना है ।







कटहल का अचार


कटहल का अचार बहुत कॉमन नहीं है , मुख्य रूप से उत्तर भारत मैं इसे सब्ज़ी के रूप मैं ही खाया जाता है । अन्य कई प्रदेशों मैं पका हुवा कटहल ज़्यादा खाया जाता है । दक्षिण भारत मैं इसके चिप्स स्नैक्स की तरह खाए जाते है ।
कटहल का ऊपरी छिलका बेहद सख़्त होता है , घर पर इसे काटना मुश्किल होता है , साथ ही इसे काटते समय हाथो पर तेल और चाकु और कटहल पर बार बार निबु लगाना पड़ता है अतः जहाँ तक हो सके कटवा कर ही ले ।
अचार बनाने के लिए कच्चा कटहल ले , यह देखे कि बीज बड़े व सख़्त ना हो ।

आवश्यक सामग्री 

  • कटहल            1 kg
  • कच्चे आम        250gm
  • सोंफ               3 बड़े चम्मच
  • पिली सरसों      3 बड़े चम्मच
  • मेथी दाना         1 छोटी चम्मच
  • कलोंजी.          1 छोटी चम्मच
  • लाल मिर्च        1  बड़ा चम्मच
  • हल्दी               1/4 छोटी चम्मच 
  • नमक               स्वादानुसार
  • हींग                1/4  छोटी चम्मच 
  • सरसों का तेल  250ml

बनाने की विधि 

कटहल छोटे टुकड़ों मैं काट ले , एक भगोने मैं पानी उबाले , ऊपर एक छलनी रखे , इसमै कटहल के टुकड़े रखे , ढाँक दे , दस मिनट तक भाप मैं पकने दे , निकाल कर एक कॉटन के कपड़े पर फेला दे , लगभग दो घंटे तक फ़ेले रहने दे । 

सोंफ , पिली सरसों को हल्का सा भून कर बारीक पिस ले , मेथीदाना और कलोंजी नहीं पिसना है । 
कच्चे आम छिल कर कद्दूकस कर ले ( चाहे तो छोटे टुकड़ों मैं भी काट सकते है )
कढाही मैं एक चम्मच तेल डाले , हींग डाले मेथी दाना और कलोंजी डाले , हल्दी डाले , कच्चे किसे आम डाले , कटहल डाले , सोंफ , सरसों , लाल मिर्च व नमक डाले , अच्छी तरह से मिक्स कर ले , गैस बंद कर दे । 
सरसों का तेल ख़ुशबू आने तक गरम करे । 
ठण्डा होने पर अचार मैं डाल दे । 
सुखी बरनी ले उस मैं पहले हींग जला कर डाले फिर अचार भरे ।
तैयार है खट्टा , तिखा मसालेदार कटहल का अचार । 
इस अचार को पूरे साल स्टोर किया जा सकता है । कोई preservative की ज़रूरत नहीं होती है , बस तेल अचार से एक इंच ऊपर तक होना चाहिए व निकालते समय सूखा चम्मच ले व ढक्कन मैं ऐल्यूमिनीयम foil लगा कर रखे । 






Sidekicks

लंच हो या डिनर , खाने के साथ कई sidekicks हो तो खाने का मज़ा कई गुना बढ़ जाता है , रूटीन खाना भी उबाऊ नहीं लगता है , भरी हुई थाली देखने मैं भी अच्छी लगती है । सलाद , अचार , पापड़ , चटनी ये सभी चीज़ें खाने मैं रुचि जगाती है ।
मैं कुछ ऐसी receipes शेयर कर रही हू जो रूटीन से थोड़ी अलग है ।
आम तोर से सलाद मैं कटा प्याज़ , खीरा और टमाटर होता है । इन्ही चीज़ों को कुछ अलग तरह से बना कर एक टेस्टी और पोष्टिक साइड्किक बन जाएगा ।

कच्चे पपीते की चटनी 

कच्चा पपीते की चटनी गुजरात मैं ज़्यादा बनायी जाती है । जो कच्चे पपीते के पोष्टिक गुणो से भरपूर होती है ।

आवश्यक सामग्री 

  • कच्चा पपीता  100 gm
  • लाल मिर्च    1/4 छोटी चम्मच 
  • शक्कर        1 छोटी चम्मच
  • नमक           1/2 छोटी चम्मच 
  • हरा धनिया 
  • निबु का रस 1/2 छोटी चम्मच 

बनाने की विधि 

पपीते को धो कर छील ले , कद्दूकस कर ले , लाल मिर्च , नमक  व शक्कर मिलाए , निबु का रस मिलाए , अच्छी तरह मिक्स करे , ऊपर बारीक कटा धनिया डाले । पपीते की चटनी तैयार है । 

खीरा कचुम्बर  

खीरा को हम सामान्य रूप से गोल काट कर ही खाते है , इस बार कचुम्बर बना कर देखिए ,बेहद टेस्टी लगेगा और जो लोग diet प्लान follow कर रहे है उनके लिए best filler होगा ।

आवश्यक सामग्री 

  • खीरा  1
  • हरी मिर्च 1 बारीक कटी हुई 
  • नमक   1/2  छोटी चम्मच 
  • शक्कर  1/2  छोटी चम्मच  
  • मूँगफली पिसी हुई 1 बड़ी चम्मच 
  • निबु का रस  1/2  छोटी चम्मच 
  • हरा धनिया  बारीक कटा हुवा 

बनाने की विधि 

खीरे को धो कर छिल ले , अगर बीज ज़्यादा बड़े है तो निकाल दे , छोटे है तो रहने दे । खीरे को बिलकुल बारीक काट ले , इसमै नमक , शक्कर , पिसी हुई मूँगफली , हरी मिर्च , हरा धनिया और निबु का रस मिला कर मिक्स करे । टेस्टी और हेल्थी कचुम्बर तैयार है । 

विशेष 

पपीते की चटनी को सवेरे बना कर शाम तक use कर सकते है लेकिन खीरे का कचुम्बर ताज़ा ही बनाए ।




नाइलॉन खमण


नाइलान खमण ख़ूब spongy और रसभरा होता है , दबाने पर sponge की तरह दब जाता है । जब खाने का मन हो या कोई guest आए हो और तुरंत ही कोई नाश्ता सर्व करना हो तो इसे ज़रूर ट्राई करे । इसे आप इंस्टंट खमण भी कह सकते है ।

आवश्यक सामग्री 

खमण के लिए 

  • बारीक बेसन  1 cup 
  • इनो पाउच      1
  • लाल मिर्च 1/4 tsp 
  • नमक        1/2 tsp 
  • पानी         1/2cup

तड़के के लिए 

  • तेल    1 tbsp
  • राई     1/2 tsp
  • करी पत्ता 
  • हरी मिर्च    3 
  • हरा धनिया 
  • शक्कर      1 tbsp 
  • पानी          3 tbsp 

बनाने की विधि 

बेसन मैं पानी मिला कर घोल बना ले , न अधिक गाढ़ा न अधिक पतला , अच्छी तरह मिक्स करे कोई गाँठ ना रहे । 
कुकर मैं दो कप पानी डाले और गरम होने रख दे । 
इधर बेसन मैं नमक , मिर्च और इनो पाउडर डाले , मिक्स करे । गोल घुमाते हुवे मिक्स ना करके फ़ोल्ड करे , इससे ज़्यादा स्पंजी बनेगा । 
ऐसा कोई पॉट ले जो कुकर मैं फ़िट आ जाए , पॉट मैं अंदर तेल लगा कर बेसन का घोल डाल दे । 
कुकर की सिटी निकाल कर दस मिनट स्टीम बैक करे । दस मिनट बाद चाकु डाल कर देखे , अगर चाकु पर चिपक नहीं रहा है मतलब अच्छी तरह स्टीम  हो गया है । 
बाहर रखे थोड़ा ठण्डा होने पर एक प्लेट ले उस मैं इसे पलट दे । पाँच मिनट और ठण्डा होने दे । 

तड़का 

तेल गरम करे राई , हरी मिर्च और करी पत्ता डाले अब इस तड़के को खमण पर डाले । चोकोर टुकड़ों मैं काट ले 
एक कटोरी मैं पानी ले उस मैं शक्कर डाले , गरम करे , और इस शक्कर के घोल को खमण पर डाल दे । दस मिनट ऐसे ही रखे शक्कर का घोल अच्छी तरह absorb हो जाएगा ।
हरे धनिए से garnish करे । 
रसीला , ख़ूब स्पंजी खमण तैयार है । 

विशेष 

ईनो डालने के बाद गोल ना फेंट कर फ़ोल्ड करे इससे जाली नहीं टूटेगी और तुरंत ही स्टीम करे । 
शक्कर का घोल डालने के बाद कम से कम दस मिनट ऐसे ही रखा रहने दे , हाथ लगने से बेसन घुलने लगता है ।