सब्ज़ा




सब्ज़ा जो तुलसी के बीज , फ़ालूदा बीज या तकमरिया के नाम से भी जाना जाता है  । यह हमारे घरों मैं लगने वाली तुलसी ना हो कर तुलसी कूल के ही एक अन्य पोधे रूद्र जड़ के बीज है ।
ये काले रंग के tear shaped बीज होते है , इन्हें कच्चा प्रयोग ना कर के पानी मैं भिगो कर फूलने पर प्रयोग किया जाता है
पानी मैं 15 minute भिगोने पर अपने मूल आकार से 30 times फूल जाते है ।
इसमै प्रोटीन अधिक मात्रा मैं होता है इसके साथ ही इसमै phytochemicals और polyphenolic flavonoids जैसे की orientin, vicenin और अन्य कई antioxidants होते है ।
इसमै beta carotene, lutein, विटामिन A , विटामिन K होता है । इसमै potassium, manganese, copper, calcium, folates और magnesium होता है ।
इसमै कोई स्वाद नहीं होता है और ना ही कोई गंध होती है , इसलिए हम इसे किसी भी dish मैं मिला का खा सकते है ।
Drinks या desserts को garnish करने मैं इसका उपयोग कर सकते है ।
एक दिन मैं केवल दो चम्मच पर्याप्त है ।इसके कई आश्चर्य जनक फ़ायदे है ।

1 : वज़न घटाने मैं मदद करता है । इसमै alphalinolenic acid ALA होता है जो एक omega 3 fatty acid है जो fat burning metabolism को तेज़ करता है जिससे वज़न घटाने मैं मदद मिलती है ।
इसमै बहुत ज़्यादा fibers होने से इसको खाने के बाद पेट  भरा हुवा लगता है और कुछ खाने का मन नहीं होता है ।
इसको खाने के साथ सलाद मैं डाल कर या दही मैं मिला कर खा सकते है ।

2 : constipation और bloating को दूर करता है । यह एक natural detoxifier है जो stomach को क्लीन करने का कार्य करता है इसमै उपस्थित volatile oil gastrointestinal tract से गैस relieve करने  मैं मदद करता है ।
इसके लिए सोते समय एक glass दूध मैं मिला कर पिए।

3 : acidity को दूर करता है । इसका diuretic गुण toxins को बाहर कर देता है और यह ऐसिड को neutrilise करके शरीर का pH ठीक करता है । और इसके भीगे हुवे बीजों मैं बहुत मात्रा मैं पानी होने से burning sensation कम कर देता है ।

4  : स्वस्थ त्वचा के लिए भी बहुत उपयोगी है । इसके सूखे बीजों को पिस कर नारियल तेल मैं मिला कर पाँच minute   गरम करके छान करके eczema, psoriasis जैसी बीमारियों से प्रभावित त्वचा पर लगाए
इसी तेल को बालों मैं लगा कर मालिश करने से बालों का झड़ना रूक जाता है ।

5  : यह type 2 diabetes रोगियों के ब्लड शुगर लेवल को क़ाबू मैं रखता है । toned milk मैं मिला कर पिए ।

6 :       Menopausal women जिन्हें hot flashes की समस्या है वो निबु पानी , रूह आफ़जा , नारियल पानी या लस्सी मैं मिला कर पिए  । फ़ालूदा मैं डाल कर खाए । यह एक coolant की तरह कार्य करता है ।

7  : cough और flu मैं भी फ़ायदा करता है । इसकी antispasmodic property होने से यह गले की muscles को relax करता है । इसमै उपस्थित flavonoids immunity बढ़ाते है

बच्चों और pregnant women को इसका सेवन नहीं करना चाहिए ।क्यूँकि फूलने पर इसके बीज बेहद चिकने हो जाते है जो बच्चों के गले मैं चिपक सकते है और उन्हें गटकने मैं परेशानी हो सकती है ।
इसके बीज estrogen level को कम कर देते है इसलिए pregnant women को इसका उपयोग नहीं करना चाहिए ।






No comments:

Post a Comment